Please wait...
Loader Loading...
EAD Logo Taking too long?

Reload Reload document
| Open Open in new tab

Download

0 363

For a child with speech difficulties, even communicating basic needs may become confusing and challenging. Using picture communication may assist the child in expressing their needs with ease, without feeling anxious. This can be in the form of pictures to convey basic needs, emergency needs, to learn about the steps involved in activities of daily living, and for communicating one’s feelings with another. 

Here are examples of picture schedules a non-verbal child can use to communicate:

  • Communication cards 

Here are examples of pictures a non-verbal child can use to communicate about daily needs such as food, water, responding with yes/no, and expressing feelings to another person. These cards can be helpful for a child to express their everyday needs and feelings, so that anxiety associated with the inability to express themselves can be reduced. 

If you have questions about Autism, Down Syndrome, ADHD, or other intellectual disabilities, or have concerns about developmental delays in a child, the Nayi Disha team is here to help. For any questions or queries, please contact our FREE Helpline at 844-844-8996. You can call or what’s app us. Our counselors speak different languages including English, Hindi, Malayalam, Gujarati, Marathi, Telugu, and Bengali.

DISCLAIMER: Please note that this article is for information purposes only.

एक विशेष आवश्यकता वाले बच्चे के लिए दैनिक दिनचर्या से जुड़ी सामान्य जरूरतें व्यक्त करना भी चुनौतीपूर्ण  और पेचीदा हो जाता है। बिना परेशान हुए अपनी जरूरतों को सरलता से व्यक्त करने के लिए चित्रों की सहायता से संवाद करना ऐसे बच्चों के लिए मददगार साबित होगा। यह चित्र सामन्य जरूरत ,आपातकालीन जरूरत,दैनिक दिनचर्या से जुड़ी गतिविधि के विभिन्न चरणों के बारे में सीखना और अपनी भावनाएं दूसरों से व्यक्त करने सम्बंधित हो सकती हैं।  यहाँ कुछ उदाहरण दिए गए हैं जो एक अशाब्दिक बच्चा संवाद के लिए उपयोग कर सकता है - संवाद कार्ड-यहाँ चित्रों के उदाहरण दिए गए हैं। एक अशाब्दिक बच्चा अपनी दैनिक जरूरतों जैसे खाना खाना है , पानी पीना है आदि बताने के लिए हाँ या ना में जवाब दे सकता है। साथ ही अपनी भावनाएं दूसरों से के सामने व्यक्त भी कर पायेगा। यह बच्चों  की दैनिक दिनचर्या से जुड़ी  जरूरतों को व्यक्त करने में उनकी मदद करेंगे और बच्चे अपनी भावनाएं भी बता पाएंग।  अपनी बात ठीक से ना कह पाने के कारण बच्चों में जो उत्कंठा और निराशा होती है इनके प्रयोग से वह भी कम होगी। यदि आपको ऑटिस्म, डाउन सिंड्रोम, एडीएचडी, या अंय बौद्धिक विकलांग के बारे में सवाल है, या एक बच्चे में विकास में देरी के बारे में चिंता है, नई दिशा टीम यहां मदद करने के लिए है । इसलिए, किसी भी प्रश्न या प्रश्न के लिए, कृपया 844-844-8996 पर हमारी मुफ्त हेल्पलाइन से संपर्क करें। आप या तो कॉल कर सकते हैं या हमें वॉट्स एप कर सकते है। अस्वीकरण: कृपया ध्यान दें कि यह गाइड केवल जानकारी उद्देश्यों के लिए है। कृपया किसी भी कानूनी परामर्श या अपने बच्चे की जरूरतों से संबंधित सलाह के लिए एक वित्तीय सलाहकार से परामर्श करें ।

Article 1 of 7 articles in series
|

88614
11/12/2023

Communication cards

Nayi Disha Editor

78616
25/11/2022

What is Echolalia?

Nayi Disha Editor

Suggested Service Providers