Social circles – a graphic tool to teach the concept of personal space and safety (English/Hindi)
Helpline844 844 8996
Slideshow
|
Bookmark
Like
0 1417

A child who has trouble with social interaction and communication may have difficulty interpreting and addressing social relationships. Inability to verbally communicate can often make it hard for the child to make his/her feelings clear about social boundaries with other people. In such a situation how can a parent teach such a child about personal safety? One such graphic tool to use is the concept of social circles. Use this color coded tool to explain varying levels of familiarity with people the child may encounter on a daily basis. This tool may come in handy to find a way to help him/her distinguish unknown strangers from near and dear ones.

Follow Suraksha’s lead in the presentation above to help you teach your child the concept of social circles. 

Suraksha will meet & interact with many people throughout the day. OR She may show preferential affinity towards certain people while avoiding interaction with others around her. How can we help her understand her relationship boundaries in order to stay safe & secure? 

DISCLAIMER: Please note that this guide is for information purposes only. Please consult a qualified health practitioner for safe management

Acknowledgement : We thank Ms.Snigdha Indukuri for reviewing the content and providing valuable feedback.

Please do check out this resource on how you can ensure your child’s school, therapy centre and home can be a safe zone for him/her. 

———————————————————————————————————————————————————

बच्चे जिन्हें सामाजिक मेलजोल और बातचीत/संवाद करने में परेशानी हो सकती है उन्हें सामाजिक संबंधी विचार को बताने/समझाने में परेशानी हो सकती है। शब्दों के माध्यम से बात न कर पाने की परेशानी के कारण ऐसे बच्चों को दूसरे लोगों के साथ सामाजिक दायरे संबंधी अपने विचारों को स्पष्ट रूप से रखने में परेशानी हो सकती है। ऐसी स्थिति में माता-पिता इन बच्चो को व्यक्तिगत सुरक्षा के बारे में कैसे सिखा सकते हैं? इस संबंध में सामाजिक दायरों को बताने के लिए एक ग्राफिक टूल का उपयोग अच्छा रहता है । इस टूल में सम्बन्धों के विभिन्न स्तरों के लिए अलग-अलग रंगों का एक कोड के रूप में प्रयोग किया गया है, जिसकी सहायता से बच्चा अपनी रोज़मर्रा की जिंदगी में जिन लोगों के संपर्क में आता है उनके साथ उनका परिचय करवाया जा सकता है। इस टूल की मदद से बच्चे को अजनबी और अंजाने लोगों व निकट संबंधियों को पहचानने और उनमें अंतर करना सरलता से सिखाया जा सकता है।

इस प्रेजेंटेशन में सुरक्षा की मदद से बच्चों को सामाजिक दायरों की पहचान करना सिखाया जा सकता है।

सुरक्षा रोज़ सारा दिन अनेक लोगों से मिलती और बातें करती है अथवा वह अपने आस-पास कुछ लोगों के साथ बातचीत से बचने के लिए  कुछ दूसरे लोगों के प्रति पसंदगी भरी आत्मीयता दिखा सकती है। स्वयं को सुरक्षित और निश्चिंत रखने के लिए हम उसे सम्बन्धों के दायरों के बारे में किस प्रकार समझा सकते हैं ?

अस्वीकरण: कृपया ध्यान दें कि यह गाइड केवल जानकारी देने के उद्देश्य के लिए तैयार की गई है। सुरक्षित प्रबंधन के लिए कृपया एक योग्य स्वास्थ्य चिकित्सक से सलाह करें।

आभार: हम सामग्री की समीक्षा करने और मूल्यवान प्रतिक्रिया प्रदान करने के लिए स्निग्धा इन्दुकुरी का धन्यवाद करते हैं।

आप अपने बच्चे के स्कूल, थेरेपी सेंटर और घर को उसके लिए सुरक्षित क्षेत्र कैसे बना सकते हैं इसके लिए आप इस संसाधन का उपयोग कर सकते हैं।

 

 

बच्चे जिन्हें सामाजिक मेलजोल और बातचीत/संवाद करने में परेशानी हो सकती है उन्हें सामाजिक संबंधी विचार को बताने/समझाने में परेशानी हो सकती है। शब्दों के माध्यम से बात न कर पाने की परेशानी के कारण ऐसे बच्चों को दूसरे लोगों के साथ सामाजिक दायरे संबंधी अपने विचारों को स्पष्ट रूप से रखने में परेशानी हो सकती है। ऐसी स्थिति में माता-पिता इन बच्चो को व्यक्तिगत सुरक्षा के बारे में कैसे सिखा सकते हैं? इस संबंध में सामाजिक दायरों को बताने के लिए एक ग्राफिक टूल का उपयोग अच्छा रहता है । इस टूल में सम्बन्धों के विभिन्न स्तरों के लिए अलग-अलग रंगों का एक कोड के रूप में प्रयोग किया गया है, जिसकी सहायता से बच्चा अपनी रोज़मर्रा की जिंदगी में जिन लोगों के संपर्क में आता है उनके साथ उनका परिचय करवाया जा सकता है। इस टूल की मदद से बच्चे को अजनबी और अंजाने लोगों व निकट संबंधियों को पहचानने और उनमें अंतर करना सरलता से सिखाया जा सकता है। इस प्रेजेंटेशन में सुरक्षा की मदद से बच्चों को सामाजिक दायरों की पहचान करना सिखाया जा सकता है। सुरक्षा रोज़ सारा दिन अनेक लोगों से मिलती और बातें करती है अथवा वह अपने आस-पास कुछ लोगों के साथ बातचीत से बचने के लिए कुछ दूसरे लोगों के प्रति पसंदगी भरी आत्मीयता दिखा सकती है। स्वयं को सुरक्षित और निश्चिंत रखने के लिए हम उसे सम्बन्धों के दायरों के बारे में किस प्रकार समझा सकते हैं ? अस्वीकरण: कृपया ध्यान दें कि यह गाइड केवल जानकारी देने के उद्देश्य के लिए तैयार की गई है। सुरक्षित प्रबंधन के लिए कृपया एक योग्य स्वास्थ्य चिकित्सक से सलाह करें। आभार: हम सामग्री की समीक्षा करने और मूल्यवान प्रतिक्रिया प्रदान करने के लिए स्निग्धा इन्दुकुरी का धन्यवाद करते हैं।अस्वीकरण: कृपया ध्यान दें कि यह गाइड केवल जानकारी देने के उद्देश्य के लिए तैयार की गई है। सुरक्षित प्रबंधन के लिए कृपया एक योग्य स्वास्थ्य चिकित्सक से सलाह करें। आप अपने बच्चे के स्कूल, थेरेपी सेंटर और घर को उसके लिए सुरक्षित क्षेत्र कैसे बना सकते हैं इसके लिए आप इस संसाधन का उपयोग कर सकते हैं।
Suggested Service Providers
Select your language