Infographic
| 2 Minutes |

0 1609

What measures to take when you spot a wandering child/adult with disabilities? It is entirely possible that a child/adult with different needs may have trouble with social interaction and communication. Under these situations it becomes your prerogative as a citizen to help ensure the child/adult’s safety by contacting the concerned authorities in a timely manner.

Wandering away from home or school is a common problem amongst high risk
children and adults (those with intellectual / cognitive / social / communication
disability) and can have life-threatening consequence

Signs to look for:
1. Is the child/adult without an adult companion?
2. Is he/she not making eye contact, unable to speak clearly?
3. Does he/she look disorientated/restless, in need of help?

What can you do?

  • Comfort the person, however try to avoid physically touching him/her
  • Call 100 for Police or 1098 for Childline (child helpline); wait with the person till help arrives
  • Take the person to the nearest police station
  • Take pictures and upload the information on khoyapaya.gov.in
  • Call us on +91 98409 31790 or email contact@scanfamily.org

Also check keeping children autism safe from wandering

If you have questions about Autism, Down Syndrome, ADHD, or other intellectual disabilities, or have concerns about developmental delays in a child, the Nayi Disha team is here to help. For any questions or queries, please contact our FREE Helpline at 844-844-8996. You can call or what’s app us. Our counselors speak different languages including English, Hindi, Malayalam, Gujarati, Marathi, Telugu, and Bengali.

DISCLAIMER: Please note that this article is for information purposes only.

  जब आप किसी भी विकलांगता से प्रभावित बच्चे/ वयस्क को भटकते हुए देखें तो क्या उपाय करें?  यह पूरी तरह से संभव है कि विभिन्न आवश्यकताओं वाले बच्चे वयस्क को सामाजिक संपर्क और संचार में परेशानी हो सकती है। इन स्थितियों में एक नागरिक के रूप में यह आपका कर्तव्य बन जाता है कि आप समय पर संबंधित अधिकारियों से संपर्क करके बच्चे/ वयस्क की सुरक्षा के बारे में सोच तथा मदद करें। घर या स्कूल से दूर भटकना एक आम समस्या हो गई है। (बौद्धिक/ संज्ञानात्मक/ सामाजिक/ संचार विकलांगता से प्रभावित) इन जोखिम वाले बच्चों तथा वयस्कों के जीवन में यह भटकना एक खतरे की निशानी है।   ध्यान देने वाले संकेत  1.क्या बच्चा/ वयस्क किसी वयस्क साथी के बिना है?
  1. क्या वह आंख से आंख नहीं मिल रहा है, स्पष्ट रूप से बोलने में असमर्थ है। 
3.क्या वह भटका हुआ/ बेचैन दिखता है, उसे मदद की जरूरत है?  आप क्या कर सकते हैं? * व्यक्ति को शारीरिक रूप से ना छूते हुए उसे आराम महसूस कराएं। * पुलिस के लिए 100 या चाइल्डलाइन (चाइल्ड हेल्पलाइन) के लिए 1098 पर कॉल करें, सहायता आने तक उस व्यक्ति के साथ प्रतीक्षा करें। * व्यक्ति को नजदीकी पुलिस स्टेशन ले जाएं  तस्वीर लें और जानकारी www.khoyapaya.gov.in पर अपलोड करें।  हमें 9840931790 पर कॉल करें या contact@scanfamily.org पर ईमेल करें।   ऑटिज्म से प्रभावित बच्चों को भटकने से बचाने की भी जांच करें— अगर आपके मन में ऑटिज्म, डाउन सिंड्रोम, ए डी एच डी तथा बौद्धिक विकलांगता एवं विकासात्मक देरी को लेकर कोई भी सवाल है तो नई दिशा की टीम आपकी मदद के लिए तैयार है। कोई भी प्रश्न हो तो आप हेल्प लाइन नंबर पर व्हाट्सएप या कॉल कर सकते हैं। हमारा हेल्पलाइन नंबर है 844 844 8996 है। हमारे मार्गदर्शक विभिन्न भाषाओं में आपसे बात कर सकते हैं इंग्लिश, हिंदी, मलयालम, गुजराती, मराठी, तेलुगू और बंगाली।   सूचना– कृपया इस बात का ध्यान रखें कि यह सारी बातें जानकारी के उद्देश्य से यहां प्रस्तुत की गई है।  
Suggested Service Providers