Article
| 2 Minutes |
Please wait...
Loader Loading...
EAD Logo Taking too long?

Reload Reload document
| Open Open in new tab

Download

0 1687

We are aware that many parents of children with Autism Spectrum Disorder or ASD have been offered stem cell therapies as a standard treatment option. Autism being a disability, the therapy results are slow, thus making the parents desperate for some miraculous solution. Hospitals have charged lakhs of money for stem cell therapy sessions but mostly it showed no result.

Indian Council of Medical Research, ICMR with inputs from medical specialists in this field has critically reviewed the existing scientific and medical literature regarding any evidence-based safety and efficacy of stem cells in ASD. The studies have revealed that stem cell therapy should NOT be offered as a standard or routine therapy to individuals with Autism.

According to the recent circular issued by the National Medical Commission (NMC) on 6th Dec 2022, “ The use of stem cell therapy in treating patients with autism spectrum disorder (ASD) is not recommended and its promotion and advertisement will be considered professional misconduct”. To know in detail, read the circular attached above.

Medical professionals have welcomed the order as they agree to the fact that Autism is not curable and it is medically unethical to promise stem cell therapy as its cure. Doctors have also observed that there is a rise in irritability and aggression in people with ASD after stem cell therapy sessions.

If you have questions about Autism, Down Syndrome, ADHD, or other intellectual disabilities, or have concerns about developmental delays in a child, the Nayi Disha team is here to help. For any questions or queries, please contact our FREE Helpline at 844-844-8996. You can call or what’s app us. Our counselors speak different languages including English, Hindi, Malayalam, Gujarati, Marathi, Telugu, and Bengali. 

DISCLAIMER: Please note that this article is for information purposes only. 

क्या स्टेम सेल थेरेपी ऑटिज्म के निदान का इलाज है?

 

हम जानते हैं कि ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर या (ए एस डी)  प्रभावित बच्चों के कई माता-पिता को अच्छे विकल्प के रूप में स्टेम सेल थेरेपी की पेशकश की गई है। ऑटिज्म एक विकलांगता से प्रभावित स्थिति है उपचार के परिणाम धीमे होते हैं। जिससे माता-पिता किसी चमत्कारी समाधान के लिए बेताब हो जाते हैं। अस्पतालों ने स्टेम सेल थेरेपी सत्र के लिए लाखों पैसे वसूले हैं। लेकिन ज्यादातर इसका कोई नतीजा नहीं निकला।

 भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आई सी एम आर) ने इस क्षेत्र के चिकित्सा विशेषज्ञों के इनपुट के साथ ए एस डी में स्टेम कोशिकाओं को किसी भी सबूत के आधार पर उन्हें सुरक्षा और प्रभावकारिता को लेकर शंका की है।  मौजूदा वैज्ञानिक और चिकित्सा साहित्य की आलोचनात्मक समीक्षा भी की है। अध्ययनों से पता चलता है कि ऑटिज्म से प्रभावित व्यक्तियों को स्टेम सेल थेरेपी को मानक या नियमित थेरेपी के रूप में पेश नहीं किया जाना चाहिए।

 राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग(एम एस सी)  द्वारा 6 दिसंबर 2022 को जारी अभी के सर्कुलर के अनुसार ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर के रोगियों के इलाज में स्टेम सेल थेरेपी के उपयोग की सिफारिश नहीं की जाती है। और इसके प्रचार और विज्ञान को पेशेवर कदाचार(अदालत का अपमान) माना  जाएगा। विस्तार से जानने के लिए ऊपर के परिपत्र को पढ़े।

 चिकित्सा पेशेवरों ने आदेश का स्वागत किया है क्योंकि इस तथ्य से वे सहमत हैं कि ऑटिज्म का इलाज संभव नहीं है। इसके इलाज के रूप में स्टेम सेल थेरेपी का वादा करना चिकित्सकीय रूप से अनैतिक है। डॉक्टरों ने यह भी देखा कि स्टेम सेल थेरपी सत्र के बाद ए एस डी वाले लोगों में चिड़चिड़ापन और आक्रामकता बढ़ जाती है।

79384
21/12/2022

Is Stem Cell Therapy a cure for treating Autism?

Indian Council of Medical Research(ICMR)

76837
07/09/2022

Entrepreneurs with disabilities

NayiDisha Editor

Suggested Service Providers